Ahmedabad 145th Rathyatra

Ahmedabad. भगवान जगन्नाथ की 145वीं रथयात्रा में शामिल होते हुए जमालपुर जगन्नाथ मंदिर से पदयात्रा करते हुए सरसपुर स्थित रणछोडऱाय मंदिर पहुंचने वाले हजारों श्रद्धालुओं को सरसपुर में 10 से ज्यादा जगहों पर भोजन कराया जाएगा। इसकी तैयारी पूरी कर ली गई है। रथों को खींचकर लाने वाले खलासियों के लिए वडवाळोवास में विशेषरूप से खिचडी और सब्जी बनाई जा रही है। वहीं सालवी वाड, लुहार की पोल, कडियावाड, तलिया पोल, लीमडा पोल, पीपडा पोल, गांधी की पोल, आंबली वाड, ठाकोरवास, पिंजरावाड (रूडी मां की रसोई) सहित कुछ अन्य जगहों पर भोजन तैयार किया जा रहा है। कहीं पूरी और सब्जी बनाई जा रही है तो कई साथ में मिठाई में मोहनथाल व अन्य बूंदी, फूलवड़़ी सरीखे मिष्ठान तैयार किए जा रहे हैं।
गजराज पूजन

भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा की अगुवाई करने वाले गजराजों का रथयात्रा से एक दिन पूर्व महंत दिलीपदास महाराज ने पूजन किया। जिन रथों में बिठाकर भगवान जगन्नाथ, बहन सुभद्रा और बलदाऊ को नगर भ्रमण पर निकाला जाएगा उन रथों को गुरुवार सुबह मंदिर के सामने स्थित रथ के स्थल से मंदिर में लाया गया। महंत दिलीपदास महाराज व अन्य लोगों ने रथों का पूजन किया।
मंत्रियों ने की जगन्नाथ की आरती
रथयात्रा की पूर्व संध्या पर जगन्नाथ मंदिर पहुंचकर विधानसभा अध्यक्ष डॉ. नीमाबेन आचार्य, स्वास्थ्य मंत्री ऋषिकेश पटेल, गृह राज्यमंत्री हर्ष संघवी ने भगवान जगन्नाथ की महाआरती की। राज्य के लोगों की सुख, शांति, समृद्धि और बेहतर स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना की।
रथयात्रा का यह रूट और समय रहेगा

सुबह 07:05 बजे-मंदिर से रथयात्रा का शुभारंभ
सुबह 09:00 बजे-महानगरपालिका
सुबह 09:45 बजे-रायपुर चकला
सुबह 10:30 बजे-खाडिय़ा चार रास्ता
सुबह 11:15 बजे-कालूपुर सर्कल
दोपहर 12 बजे-सरसपुर
दोपहर 01:30 बजे-सरसपुर से वापसी
दोपहर 02:00 बजे-कालूपुर सर्कल
दोपहर 03:15 बजे-दिल्ली चकला
दोपहर 03:45 बजे-शाहपुर दरवाजा
शाम 04:30 बजे-आर सी हाईस्कूल
शाम 05:00 बजे-घी कांटा
शाम 05:45 बजे-पानकोर नाका
शाम 06:30 बजे-माणेक चौक
शाम 08:30 बजे-निज मंदिर वापसी

Rathyatra, the very special chariot festival held every year of Ashadh Sud Beej across the world and millions of devotee celebrates with full of joy and devotion. The idols of Lord Jagannathji, Lord Balaramji and their sister Subhadraji are placed on colorful chariot - Raths and pulled by devotees. It is believed that whole year we people as devotees going to temple for praying god but at the day of Rath Yatra all three deity coming out from their temple to see and blessed us.

Rathyatra is celebrated in lots of cities across the world and the world famous is Rathyatra of Jagannath Puri. In Gujarat, Rathyatra observed in several cities like Ahmedabad, Gandhinagar, Vadodara, Bhavnagar, Surat, Porbandar etc. But the Rathyatra of Ahmedabad is very special and relatively held at massive level. This year Ahmedabad is celebrating the 145th Rathyatra and all arrangement are set up with following covid protocols. This year more than 2000 saint across the India will join the Rathyatra in Ahmedabad, 30 Akhada, 18 Bhajan Mandali, 101 trucks presenting Indian Culture and 18 elephants are also take participation in Rathyatra celebration.

The schedule of Ahmedabad Rathyatra is as below.

Jagannat Temple, Ahmedabad is celebrating this festival for three days, 29, 30 and 1 July, 2022

On 29th June, Idols of Lord will bring back to Jagannath Temple premise from their uncles’ house which followed by various rituals like Netrotsav, Dhwajarohan and Bhandara.

on 30th June, Pujan archan of all three Rath is arranged followed by Maha Aarti.

And, finally, the most awaited day, Rathyatra, 2022, 01 July after two year of Pandemic time, when Mangala Aarti held at 4 AM followed Bhog of Khichada and then Rathyatra starts at 7 AM. As per the root and schedule, Rathyatra will be followed with full security and come back to Jagannath Temple at around 8 PM.

Date: 01-07-2022 To 01-07-2022

Time: 07:00 To 20:00

Drive By: Temple Trust

Address: Jagannath Temple Jamalpur,Ahmedabad, Gujarat

God: Krishna

Post a Comment

Previous Post Next Post